जानें, हार्ट अटैक के लक्षण: आपकी सुरक्षा की चिंता हमारी प्राथमिकता

यह बीमारी बच्चों से लेकर बूढ़ों तक हर उम्र के लोगों के लिए खतरा पैदा करती है।दिल के रोगों की आशंका आजकल तेजी से बढ़ रही है, इसलिए दिल के दौरे को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। हृदयाघात एक प्रमुख दिल की बीमारी है और यह वैश्विक रूप से बढ़ रही है। इसका समय पर इलाज न करने पर मृत्यु का खतरा बढ़ जाता है। आपके दिल की सेहत को सुरक्षित रखने के लिए नियमित शारीरिक गतिविधियों, स्वस्थ आहार और नियमित चेकअप का पालन करना अत्यंत आवश्यक है।

हार्ट अटैक के लक्षण
हार्ट अटैक के लक्षण

Heart Attack क्या हैं?

हार्ट अटैक आमतौर पर ‘हृदयाघात’ के नाम से जाना जाता है। यह एक गंभीर स्वास्थ्य समस्या है जिसमें हृदय की धमनियों को आवरण करने वाले नसों में रक्तस्राव का बंद हो जाना होता है। जब इस बंदिश के कारण हृदय के एक अंग को पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन युक्त रक्त पहुंचाने में असमर्थता होती है, तो हार्ट अटैक हो जाता है।

हार्ट अटैक के प्रमुख कारण !

हार्ट अटैक के लक्षण के कई प्रमुख कारण हैं। विशेष रूप से, अधिकतम ह्रदय संबंधी रोग जोखिम कारक हैं। बढ़ती उम्र, अनुशंसित आहार, शारीरिक निष्क्रियता, मोटापा, उच्च रक्तचाप, धूम्रपान, मधुमेह, चिड़चिड़ा पानी और मानसिक तनाव भी इससे जुड़े हैं। स्वस्थ जीवनशैली, योग और नियमित व्यायाम इसे रोकने और प्रबंधित करने में मदद कर सकते हैं।

शुरुआती चेतावनियों को कैसे परखें?

हार्ट अटैक के लक्षण में से एक है छाती में दबाव या दर्द का अनुभव। यह दर्द छाती के केंद्रीय हिस्से के पीछे या बाएं हाथ में भी फैल सकता है।

हार्ट अटैक के दौरान श्वास लेने में तकलीफ का अनुभव हो सकता है। व्यक्ति को सांस लेने में असामर्थ्य की अनुभूति होती है या व्यक्ति को फुफ्फुसों में दर्द हो सकता है।

हार्ट अटैक के पहले और दौरान व्यक्ति को बेहद थकान और अचानक कमजोरी का अनुभव हो सकता है। यह अकस्मात शारीरिक और मानसिक कमजोरी का कारण बनता है।

हार्ट अटैक से पीड़ित व्यक्ति में बेचैनी, घबराहट और अवसाद का अनुभव हो सकता है। इसमें अस्वस्थ खानपान, अनिद्रा और चिंता की स्थिति शामिल हो सकती है।

हार्ट अटैक के लक्षण क्या हैं?

  • सांस लेने में कठिनाई और दमा की स्थिति।
  • बेहोशी या घबराहट की अनुभूति।
  • बहुत अधिक पसीना आना।
  • उल्टी या मतली की भावना।
  • बाएं हाथ में या दाये में दर्द का अनुभव।
  • गले में जलन होने का अनुभव।
  • गहरी सांस लेने में समस्या।
  • थकान या दुर्बलता का अनुभव।

हार्ट अटैक के प्राथमिक लक्षण में से एक angina pain होता है, जो सीने में दर्द के रूप में अनुभव किया जाता है। इस दर्द को आमतौर पर एक दबाव, भारीपन या तंगी की तरह महसूस किया जाता है। यह दर्द केवल बाएं (left side) तरफ ही नहीं होता है, बल्कि यह बिच में या दाएं तरफ भी हो सकता है। दर्द पेट के ऊपरी हिस्से की ओर भी फैल सकता है, कभी कंधों या बाएं हाथ की ओर भी जा सकता है और कई बार यह दर्द जबड़े या दांतों में भी महसूस हो सकता है।

महिलाओं में हार्ट अटैक के लक्षण |

हार्ट अटैक महिलाओं में एक गंभीर समस्या हो सकती है, लेकिन ध्यान देने योग्य है कि यह पुरुषों की तुलना में थोड़ी कम हो सकती है। महिलाओं को हार्ट अटैक के लक्षणों की समय पर पहचान करने की आवश्यकता होती है। यहां कुछ महिलाओं के हार्ट अटैक के लक्षण हैं:

  • छाती में दर्द या दबाव का अनुभव, जो हाथों, बाएं कन्धे या दाएं हो सकता है।
  • सांस लेने में कठिनाई या दमा की समस्या।
  • बेहोशी या घबराहट की भावना।
  • उल्टी, मतली या पेट में अवसाद की भावना।
  • अनुयायियों में उल्लेखनीय थकान और कमजोरी।

महिलाओं को अपने स्वास्थ्य पर ध्यान देने और नियमित चेकअप करवाने की सलाह दी जाती है। हार्ट अटैक से बचाव के लिए स्वस्थ जीवनशैली अपनाना, संतुलित आहार खाना और नियमित शारीरिक गतिविधियों को शामिल करना अत्यंत महत्वपूर्ण है।

पुरुषों में हार्ट अटैक के लक्षण |

  • हार्ट अटैक के लक्षण पुरुषों और महिलाओं में आमतौर पर समान होते हैं। यहां पुरुषों में पाए जाने वाले हार्ट अटैक के तीन मुख्य लक्षण दिए गए हैं:
  • लगातार खर्राटा लेना और सोते समय पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिल पाना हार्ट अटैक के संकेत हो सकते हैं। नींद पूरी न होना हार्ट अटैक के खतरे को बढ़ा सकता है। इसका इलाज जल्द से जल्द कराना चाहिए।
  • टहलने पर पैरों में दर्द हार्ट अटैक के आने का संकेत हो सकता है। धमनियों का संकुचित हो जाने और रक्त प्रवाह के बाधाओं के कारण जोड़ों, पेट और सिर में खून की पर्याप्तता कम हो सकती है और पैरों में खून की कमी के कारण दर्द हो सकता है।
  • पेट में दर्द और ऊपरी पीठ में दर्द होना भी हार्ट अटैक का एक लक्षण हो सकता है।

हार्ट अटैक आने पर क्या करें?

हार्ट अटैक जीवन की एक गंभीर समस्या है जो हाल ही में हुई हो या जिसका आपने अनुभव किया है, तो यह आपके लिए एक चिंता का कारण हो सकता है। जब हार्ट अटैक होता है, तो जरूरी है कि आप तुरंत उपचार कराएं और सावधानियों का पालन करें ताकि आपकी स्थिति में सुधार हो सके।

तुरंत चिकित्सा सहायता लें: हार्ट अटैक एक जानलेवा स्थिति हो सकती है, इसलिए आपको तुरंत चिकित्सा सहायता लेनी चाहिए। अपने नजदीकी अस्पताल के एमर्जेंसी या एक डॉक्टर के पास जाएं।

आराम करें: हार्ट अटैक के बाद, शरीर को समय देना आवश्यक है ताकि वह स्वस्थ हो सके। अपने ब्रेक को लेने की कोशिश करें और थकान महसूस होने पर आराम करें। शरीर को नींद, विश्राम, और पुनर्स्थापना के लिए समय दें। इससे आपके हार्ट को मुआयना करने और स्वस्थ होने का समय मिलेगा।

यदि आपके पास Disprin, Ecosprin या Aspirin है, तो आपको रोगी को इसे देना चाहिए। ये दवाएं रक्त के थक्का जमने को रोकती हैं। इसलिए, जब किसी व्यक्ति को हार्ट समस्या होती है, यह दवाएं उन्हें तुरंत देनी चाहिए।

अगर किसी के घर में कोई हार्ट पेशेंट है, तो वह एक Sorbitrate की 5mg की गोली जीभ के नीचे रखनी चाहिए। यह दवा उनके दर्द की तीव्रता को थोड़ी कम कर सकती है। इसलिए, जब उन्हें दर्द महसूस होता है, वे इस गोली को जीभ के नीचे रखकर इसका उपयोग कर सकते हैं।

यह दवाएं और उपाय शारीरिक समस्याओं को संभालने में मदद कर सकते हैं, लेकिन हमेशा यह सुनिश्चित करें कि आप डॉक्टर से सलाह लें और उनके निर्देशों का पालन करें। वे आपके व्यक्तिगत मामलों को मध्यस्थ रूप से मूल्यांकित करके सबसे उचित सलाह दे सकते हैं।

हार्ट अटैक के दो प्रमुख प्रकार होते हैं – माइल्ड हार्ट अटैक (Mild Heart Attack) और मेजर हार्ट अटैक (Major Heart Attack)। यह दोनों प्रकार अलग-अलग लक्षणों के साथ आते हैं और इन्हें जानना महत्वपूर्ण है ताकि हम इन्हें पहचान सकें और उचित उपचार करवा सकें।

Mild Heart Attack और Major Heart Attack का क्या मतलब होता है?

माइल्ड हार्ट अटैक (Mild Heart Attack):

माइल्ड हार्ट अटैक को अक्सर “अंगीना पेक्टोरिस” के रूप में भी जाना जाता है। यह हार्ट अटैक का एक हल्का रूप होता है जिसमें हृदय के पास के इलाके में रक्त पर्याप्त मात्रा में नहीं पहुंचता है। माइल्ड हार्ट अटैक के लक्षण हो सकते हैं:

  • तेज दर्द या दबाव का अनुभव होना, जो सामान्यतः हाथ और छाती में महसूस होता है।
  • सांस लेने में तकलीफ का अनुभव होना, जिसे श्वास लेने में तकलीफ या फीफड़ों में दर्द के रूप में भी जाना जाता है।
  • थकान, घबराहट और अस्वस्थता का अनुभव होना।
  • मतली, उल्टी, आंखों में धुंधलापन, त्वचा का पीलापन या ठंड का अनुभव होना।

यदि आपको इन लक्षणों में से कुछ भी महसूस होता है, तो तुरंत चिकित्सक से संपर्क करना चाहिए और आपको अस्पताल ले जाना चाहिए।

मेजर हार्ट अटैक (Major Heart Attack):

मेजर हार्ट अटैक एक गंभीर स्थिति होती है जिसमें हृदय का एक हिस्सा पूरी तरह से बंद हो जाता है। यह अक्सर माइल्ड हार्ट अटैक के लक्षणों से भिन्न होता है और इसमें निम्नलिखित लक्षण हो सकते हैं:

  • भारी और असहनीय छाती में दर्द, जो हाथों और कंधों तक फैल सकता है।
  • अधिकतर समय दर्द के साथ बीमार महसूस होना, जो कभी-कभी उल्टी, सांस लेने में तकलीफ, थकान और उलझन के साथ जुड़ा हो सकता है।
  • भयंकर अस्थायी गंध या ध्वनि का अनुभव होना।
  • अकस्मात या लंबे समय तक के लिए बेहोशी का अनुभव होना।

मेजर हार्ट अटैक एक आपातकालीन स्थिति होती है जिसमें तुरंत चिकित्सा सहायता की आवश्यकता होती है। यदि आप या कोई दूसरा इंसान इस तरह के लक्षणों का सामना कर रहा है, तो तत्काल एम्बुलेंस को कॉल करें और अस्पताल में चिकित्सा सहायता लें।

यह ध्यान देने योग्य है कि हार्ट अटैक के लक्षण व्यक्ति के आयु, स्थायी रोग और शारीरिक स्थिति पर निर्भर कर सकते हैं। इसलिए, यदि आपको किसी भी तरह की संदेह हो तो चिकित्सक से परामर्श करना सर्वोत्तम होगा।

ध्यान रखें कि यह ब्लॉग एक साधारण मार्गदर्शन प्रदान करने के उद्देश्य से है और इसे नैदानिक परामर्श के स्थान पर न लें। हमेशा एक पेशेवर चिकित्सक से संपर्क करें या नजदीकी अस्पताल में चिकित्सा सहायता लें यदि आप या कोई दूसरा व्यक्ति हार्ट अटैक के लक्षणों का सामना कर रहा है।

हार्ट अटैक का इलाज |

जब कोई रोगी अस्पताल में आता है और उसे हृदय से संबंधित शिकायत होती है, तो डॉक्टर द्वारा सामान्यतः सबसे उपयुक्त उपचार प्राथमिक एंजियोप्लास्टी (primary angioplasty) कहलाता है। इसका मतलब होता है कि अंदरूनी धमनी के ब्लॉक को जांचने के लिए एंजियोग्राफी (angiography) की प्रक्रिया की जाती है और जहां ब्लॉक होता है, वहां एंजियोप्लास्टी के द्वारा उसे हटाकर स्टेंट (stent) रखा जाता है। इसलिए इसे प्राथमिक एंजियोप्लास्टी कहा जाता है।

यह उपचार बहुत अच्छा माना जाता है क्योंकि इससे धमनी के ब्लड फ्लो (रक्त प्रवाह) को पूरी तरह से पुनर्स्थापित किया जा सकता है। एंजियोप्लास्टी के कारण हृदय की पम्पिंग दर बढ़ जाती है।

जहां ये सुविधाएं उपलब्ध नहीं होती हैं, वहां ऐसे रोगियों को आईसीयू (ICU) में भेजा जाता है ताकि खून के थक्का (क्लॉट) को हल करने के लिए फाइब्रिनोलिटिक थेरेपी (Fibrinolytic therapy) का इंजेक्शन दिया जा सके। इस इंजेक्शन को फाइब्रिनोलिटिक थेरेपी कहा जाता है। इस इंजेक्शन का 50% रोगियों को लाभ होता है। जिन रोगियों को इससे लाभ नहीं मिलता है, उन्हें उच्चतम केंद्र (higher center) में भेजा जाता है जहां एंजियोग्राफी या आवश्यकता होने पर एंजियोप्लास्टी की जाती है।

FAQs
  1. पहली बार हार्ट अटैक के लक्षण को कैसे पहचानें?
    उत्तर: हार्ट अटैक के लक्षण में छाती में दर्द, सांस लेने में कठिनाई, थकान या अचानक कमजोरी, मतली या उल्टी, श्वसन संबंधी समस्याएं, और गड़बड़ी या असुविधा का अनुभव हो सकता है। यदि आपको ऐसे लक्षण महसूस हों तो तुरंत चिकित्सा सहायता लेनी चाहिए।
  2. हार्ट अटैक से बचने के लिए कौनसी सावधानियां बरतनी चाहिए?
    उत्तर: हार्ट अटैक से बचने के लिए आपको नियमित व्यायाम करना, स्वस्थ आहार लेना, तंबाकू और शराब की सीमित उपभोग करना, स्ट्रेस को कम करने की तकनीकें अपनानी चाहिए। इसके अलावा, नियमित चिकित्सा जांच में सक्रिय रहना भी महत्वपूर्ण है।
  3. क्या हार्ट अटैक बचाव या उपचार के लिए उपयोगी होती हैंडर्ट?
    उत्तर: हार्ट अटैक के दौरान उपयोगी हो सकती हैंडर्ट, जो हार्ट की सामरिक गतिविधियों को बढ़ावा देने में मदद कर सकती है। हार्ट अटैक के पहले मिनटों में एक एसपीआरटी देना जीवन बचाने में मदद कर सकता है। हार्ट अटैक के बाद, हार्ट अटैक की पुष्टि करने के लिए हेल्थकेयर ग्रंथियों को स्थापित करना सम्भव है।
  4. क्या हार्ट अटैक के बाद फिर से हो सकता है?
    उत्तर: हार्ट अटैक के बाद, व्यक्ति को अधिक सतर्क रहना चाहिए क्योंकि यह फिर से हो सकता है। समय रहते चिकित्सा सलाह लेना, नियमित चिकित्सा जांच में सक्रिय रहना, स्वस्थ जीवनशैली अपनाना, और निरंतर रुग्णालय में उपचार लेना, यह सब अवश्यक है ताकि हार्ट अटैक का खतरा कम हो सके

Related Link………

Top 5 Pimple cream जो पिंपल्स को जड़ से खत्म करे |

पिम्पल पैच: त्वचा की समस्याओं का No.1 रामबाण समाधान

ब्रेन ट्यूमर के लक्षण पहचानें: जागरूकता बढ़ाएं और समय से पहले पता लगाएं 1

डेंगू के लक्षण: जानें और एक पॉजिटिव नजरिये से अपने स्वास्थ्य को सुरक्षित रखें

Mouth Cancer Symptoms Hindi

 

Sharing Is Caring:

2 thoughts on “भयानक: हार्ट अटैक के लक्षण”

Leave a Comment